इज्ज़ते, शोहरते, उल्फ़ते, चाहते सबकुछ इस दुनिया में रहता नहीं, आज मैं हूँ जहाँ कल कोई और था, ये भी एक दौर है, वो भी एक दौर था....